Tuesday, August 31, 2010

आज की रात .......

याद है पिछले वर्ष का ये दिन .....आप सब की शिकायत रही थी कि कम से कम आज के दिन तो कोई दर्द भरी नज़्म न लिखूं .....तो इस बार ऐसा कुछ न लिखूंगी जो आपसब को नागवार गुजरे .....बस .इस बार शब्दों का कुछ ज़श्न है ....कुछ दावतें .... कुछ जाम .....और दुआएं आप सब की .......



मृता ...
आज की रात
फिर दावतों वाली है ...
आज की रात कोख खोलेगी
इश्क की किताब ....
चाँद भर लायेगा
मुट्ठियों में हिना
सितारे रंग घोलेंगे
आसमां के आँगन में
झनझनाएगी पायल
चाँदनी भर लाएगी
तेरे-मेरे नाम का जाम .....

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .......!!

94 comments:

Rajendra Swarnkar said...

हरकीरत हीर जी
जन्मदिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं !


- राजेन्द्र स्वर्णकार

mai... ratnakar said...

wah!! kya baat hai ji

yaqeenan aap ke ashaar padh kar to aaj kee raat chandanee sirf aur sirf aap ke naam ka jaam bhar laee hai

bahut hee achchha likha hai, ek ek shabd kamal ka asar rakhata hai

हरकीरत ' हीर' said...

शुक्रिया राजेंद्र जी ....आज अमृता- प्रीतम का भी जन्मदिन है ....!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .....


जन्मदिन की शुभकामनाएं ...और नज़्म बहुत खूबसूरत बिम्बों से सजी हुई ...

अमृता प्रीतम जी को नमन ...

Rajendra Swarnkar said...

हीरजी

आश्चर्यजनक संयोग है !
… लेकिन मुझे सचमुच याद नहीं रहा अमृता जी का जन्म दिन !
चाँदनी भर लाएगी
तेरे-मेरे नाम का जाम……

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना ………!!


…लेकिन आपको पढ़ने वाले या तो अमृता प्रीतम जी की याद में बड़ी बेकसी - बेक़रारी से भर जाएंगे , या फिर एक रूहानी सब्रो - शुक्र क्रे एहसास के साथ वज्द ( आत्म-विस्मृति के साथ आनन्दातिरेक ) के हवाले हो जाएंगे ।
… और मैं आपकी नज़्में पढ़ कर इसी आत्म-विस्मृति में रहता हूं … … …
पुनः शुभकामनाएं !!
- राजेन्द्र स्वर्णकार

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

amrita ji ke fans me hun to pata tha ki janm din hai ...aap ka bhia hai nahi pata tha... :) main to humesha kehta hun ki aap ki nazmon me amrita jee milti hain mujhe... nazm bhi pasands aayi ...aap ki janm din ki dher sari shubhkamnayen ... :) amrita ji ki rooh bhi khush hogi ...

रानीविशाल said...

Bhaut sundar....Aabhar!
Janmdin ki dheron shubkaamnaae...

Sunil Kumar said...

दिल की गहराई से लिखी गयी एक सुंदर रचना , बधाई

RAJNISH PARIHAR said...

हरकीरत हीर जी
जन्मदिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं !

संजय भास्कर said...

जन्मदिन की शुभकामनाएं

ललित शर्मा-ਲਲਿਤ ਸ਼ਰਮਾ said...


जनम दिन की ढेर सारी बधाईयाँ
मिठाई गोहाटी आ के खानी हैं।

खोली नम्बर 36......!

रश्मि प्रभा... said...

और एक पन्ना और लिखेंगे प्यार का

Avinash Chandra said...

जन्मदिन कि ढेरों बधाई आपको...नज़्म पसंद आई.

Shekhar Suman said...

janmdin ki dher saari shubkaamnayein....
achhi nazm..
yun hi likhte rahein...

राजेश उत्‍साही said...

आपके लबों पर रहे सदा मुस्कराहट
चांद भी हंसेगा न सूरज उदास होगा

दिल से मुबारक सब दिन हों आपको
है बस दुआ, हमारा यही प्रयास होगा

जन्‍मदिन मुबारक।

इमरान अंसारी said...

हीर जी,

सबसे पहले जन्मदिन की हार्दिक बधाई ..........खुदा आपको तमाम दुश्वारियों से महफूज़ रखे|
एक शानदार पोस्ट है आपकी..........गुस्ताखी माफ़ आपसे एक सवाल पूछना चाहता हूँ....... आप अमृता जी की फैन हैं या आपका उनसे कोई रिश्ता है ........आपकी हर रचना में उनका नाम या ज़िक्र सुनने में आता है .......

फुर्सत में कभी हमारे ब्लॉग पर भी आयिए-
http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
http://khaleelzibran.blogspot.com/
http://qalamkasipahi.blogspot.com/

रंजना [रंजू भाटिया] said...

जन्मदिन मुबारक आपको अपना भी और अमृता का भी ..:) अमृता की लिखी यह पंक्तियाँ आज के दिन के लिए वाकई दावत का न्योता हैं ..बहुत खूब चुनी आपने यह पंक्तियाँ .और इन्ही को पढ़ कर उन्ही का लिखा कुछ और याद आया ...

रात कुड़ी ने दावत दी
सितारों के चावल फटक कर
यह देग किसने चढ़ा दी

चाँद की सुराही कौन लाया
चांदनी की शराब पी कर
आकाश की आँखे गहरा गयी

धरती का दिल धडक रहा है
सुना है आज टहनियों के घर
फूल मेहमान आये हैं ...

सुलभ § Sulabh said...

इस बार शब्दों का कुछ ज़श्न है ....कुछ दावतें .... कुछ जाम .....और दुआएं आप सब की ...

मन तृप्त हुआ.

मेरी शुभकामनाएं पहुँच चुकी होंगी.

राजकुमार सोनी said...

आप हमेशा अच्छा लिखती है
आज भी आपने अच्छा लिखा है

आप हमेशा बेहतर रचना लिखें.. शुभकामनाएं

जन्मदिन की भी बधाई
यदि शाम को कोई केक कटे तो मेरे लिए भी बचाइएगा..

Parul said...

aur us fate panne par hogi phir ek khoobsurat nazm....!!
janmdin ki bahut bahut shubhkamnayen!

प्रकाश पाखी said...

आदरणीय हरकीरत जी.
सादर प्रणाम!
आपके की कविताएँ दिल को छूती है...दर्द की अभिव्यक्ति अंतर्मन को मथ कर नए आयामों का सृजन करती है..आज आपके जन्म दिन के अवसर पर शुभकामनाओं के रूप में दिल से निकलती तारीफ़ को पुष्प समझ कर स्वीकार करें.
जन्म दिन की बधाई!

प्रकाश पाखी.

प्रकाश पाखी said...

हरकीरत जी,
आपको शुभकामनाओं के लिए मेल किया था पर आपकी मेल में मेरा नाम जुड़ा न होने से 'नो रिप्लाय' हो गया...

डॉ महेश सिन्हा said...

जन्मदिन की हार्दिक सुभकामनाएँ

वन्दना said...

हरकीरत हीर जी
जन्मदिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं ……………कैसा अद्भुत संयोग है दोनो हीरों जन्मदिन एक ही दिन्………………सच मे बधाई की पात्र हैं आप्।

मिताली said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .......!!

bahut khoob..

janamdin ki hardik shubhkaamnayein...

KK Yadava said...

जन्मदिन की शुभकामनाएं ...अमृता प्रीतम जी पर सुन्दर रचना...सशक्त प्रस्तुति...बधाई.
__________________
'शब्द सृजन की ओर' में 'साहित्य की अनुपम दीप शिखा : अमृता प्रीतम" (आज जन्म-तिथि पर)

अनिल कान्त : said...

जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं

दीपक 'मशाल' said...

हरकीरत जी.. अब्बल जो जन्मदिन की बहुत-बहत शुभकामनाएं.. हाँ अब मेरा एक सवाल है जो आपसे पहले भी पूछ चुका हूँ आप हरकीरत हीर हैं या हरकीरत हकीर? पहले जब ब्लॉगजगत में आया तो हरकीरत हकीर नाम से परिचित हुआ.. और इस नाम ने बहुत प्रभावित भी किया.. बाद में आपका नाम सुना हरकीरत हीर.. तो ये नाम कुछ अधूरा सा या कटा हुआ सा लगा.. लगता है जैसे अचानक नाम पढ़ते-२ स्पीड ब्रेकर आ गया हो.. मेरी शंका का समाधान करें मैम.. गिफ्ट तो आपको नहीं दे सकता इतने दूर से.. लेकिन मेरे लिए जरूर ये रिटर्न गिफ्ट होगा :)

दीपक 'मशाल' said...

ohh ye kahna to bhool hi gaya ki nazm chhoti lekin khoobsorat hai.. vaise aapka lekhan kamaal hai isme koi shaq nahin

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
हीरजी !

आज की रात
फिर दावतों वाली है …


पार्टी शाम को ही है न …
कितने बजे तक पहुंचें ?

झनझनाएगी पायल
चांदनी भर लाएगी
तेरे-मेरे नाम का जाम …


रक़्स है तब तो अच्छा है !
मैं पीता - पिलाता नहीं वैसे …
गला पहले ही ख़राब है …

हां , पपीते के परांठे ज़रूर खिलाइएगा फिर …

* Many
** Many
*** Happy
**** Returns
***** Of The Day !

+*+*+*+*+*+*+*+*+*+*+*+*

CONGRATULATIONS & BEST WISHES !
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
- राजेन्द्र स्वर्णकार
!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

S.M.HABIB said...

आपको जन्म दिन की बधाइयां
अमृता प्रीतम जी को नमन.
.
" किस्मत ने एक नगमा लिखा है,
कहते हैं आज रात कोई
वही नगमा गायेगा....."

प्रवीण पाण्डेय said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .......!!

ऐसे कितने पन्ने उड़ उड़कर आँखों के सामने आ जाते हैं।

दिगम्बर नासवा said...

वाह ... कमाल की नज़्म .... और समझ भी आ गया हरकीरत जी ..... जनम दिन की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ......

दिगम्बर नासवा said...

साहित्य प्रेमियों को, प्रेम को खुदा मानने वालों को ..... अमृता जी का जनम दिन बहुत बहुत मुबारक ....

संजय कुमार चौरसिया said...

हरकीरतजी,
जन्मदिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं !

http://sanjaykuamr.blogspot.com/

हरकीरत ' हीर' said...

दीपक मशाल जी ,

अभी अभी आई ...आज दूरदर्शन में रिहर्सल था ...कल लाइव प्रोग्राम है ....
मुझे याद है आपने पहले भी पूछा था आप हरकीरत 'हक़ीर' हैं या ' हीर ' ?
मुझे भी हक़ीर ही पसंद था ...पर इमरोज़ जी मुझ से बार बार कहते थे कि हक़ीर मत लिखो ...
लिखना ही है तो हीर लिखो ....कवि या कलाकार कभी हक़ीर नहीं होते ..
.तो सोचा क्यों न उनका दिया नाम कबूल कर लूं ......
नाम बदलते वक़्त मैंने ब्लॉग में इस बात का जिक्र किया था ...शायद आपने तब पढ़ा नहीं .....

और हाँ ....इस मौके पर आपका आना सुखद लगा ......

बहुत बहुत शुक्रिया .....!!

rashmi ravija said...

जन्मदिन की ढेरों बधाई और अनेकों शुभकामनाएं हरकीरत जी.
कमाल की नज़्म है...आपके वश का ही है,इतना ख़ूबसूरत लिखना...शुक्रिया पढवाने का.

कविता रावत said...

आज की रात
फिर दावतों वाली है ...
आज की रात कोख खोलेगी
इश्क की किताब ....
चाँद भर लायेगा
मुट्ठियों में हिना
सितारे रंग घोलेंगे
आसमां के आँगन में
....janam din ka suawasar par sundar bhavabhivyati..
Apko aur Amrta-preetam ji ko janamdin kee ke saath bahut bahut shubhkamnayne

महेन्द्र मिश्र said...

आपको और अमृता जी को जन्मदिन के मौके पर बधाई और शुभकामनाये....रचना भी हमेशा की तरह सुन्दर ....आभार

डॉ टी एस दराल said...

हरकीरत जी , आज समझ में आया , इमरोज़ जी आपको दूसरी अमृता क्यों कहते हैं ।
उनके जैसा लेखन , नज्मे , कवितायेँ और दर्द भारी रचनाएँ --और यहाँ तक कि जन्म दिन भी एक ही दिन !

जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवम शुभकामनायें ।

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .......!!

वो पन्ना जो सहेजने योग्य है ।
बहुत खूबसूरत नज़्म ।

DEEPAK BABA said...

उम्मीद से बेहतर कविता ही...........

ताऊ रामपुरिया said...

जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

रामराम.

Mayank Bhardwaj said...

जन्मदिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं

Virendra Singh Chauhan said...

हरकीरत ' हीर' Ji....Many-Many Happy returns of the day.

Apko janmdin ki dher saari badhaaiyan aur shubhkaamnaayen....


Hamesha ki trah apki ye post bhi bahut hi umda hai.

Apko iske liye bhi badhaai....

Udan Tashtari said...

जन्मदिन की शुभकामनाएं!!

नज़्म बहुत ही खूबसूरत है.

अमृता प्रीतम जी को नमन!

सुशील कुमार छौक्कर said...

सबसे पहले अमृता जी और आपको जन्मदिन मुबारक।
पर आज का अफसोस ये रहा है कि मैं अमृता जी जन्मदिन भूल गया, इस भागती दौड्ती जिंदगी में। आपका तो इसलिए याद आ गया था कि आपके कमेंट के बाद यूँ ही चैक करने लगा कि आप फेसबुक पर है या नहीं। तो वहाँ देखा था। खैर रचना बहुत खूबसूरत है।

अमृता ...
आज की रात
फिर दावतों वाली है ...
आज की रात कोख खोलेगी
इश्क की किताब ....

आसमां के आँगन में
झनझनाएगी पायल
चाँदनी भर लाएगी
तेरे-मेरे नाम का जाम .....

वाह। सच आपने आज अमृता जी को बहुत प्यार से याद किया है। क्या मैं भी वो जन्मदिन का कार्ड भेज दूँ जो कभी(कॉलेज के समय) मैंने अमृता जी के लिए लिया था और आजतक पोस्ट नही किया। क्या वो अमृता जी तक पहुँच जाऐगा।
जब कभी उनकी याद आती है तो अलमारी से उनकी किताब लेकर पढने लगता हूँ और आज देखिए क्या हुआ कि जन्मदिन ही भूल गया.....

सारिका सक्सेना said...

जन्मदिन की शुभकामनाएं!!

CS Devendra K Sharma said...

waah!!!!

aaj ki raat ko daawaton ka isse bada tohfa aur kya ho sakta hai jo umra ka ek ek panna faad de...........bahut khoob


janm din ki dher saari shubhkamnayen!!!!!!!!

"aaj ki raat laayegi daawaton ki ek wajah......apni triveniyaan sajakar rakhna mombattiyon ki jagah"!!!

Akhtar Khan Akela said...

bhut khub bhn hr kirt ji kir bhut khub kya khub likhaa he chaan ke haath men hinaa paayl or rng ke istemaal ne maamla rngin or fir pnne pdhne ke kthn ne maamla gmgin bna diya bhut khub mubaark ho bhn ji . akhtar khan akela kot rajthan

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

हरकीरत जी,
जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं
इसी मौके के अनुरूप नज़्म पेश करने के लिए शुक्रिया.
आपका लेखन साहित्य जगत के आकाश में यूंही चांद-सूरज की तरह चमकता रहे.

रवि धवन said...

Happy Birthday
May God fulfill your all wishes

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari said...

जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवम शुभकामनायें ।

manu said...

:)
:)

:):)

:) :) :)

:)


)

RAJWANT RAJ said...

do surkh gulab bhej rhi hu is khushnuma mouke pe
ik tum kubul krna jharokhe ke peechhe se
ik vo kubul kre chand taro ke peechhe se
isi nek khwahish ke sath ki
kamyab ho hr mukam pe
bhut bhut sari shubhkamnayen aapko our aapke pure priwar ko .

RAJWANT RAJ said...

do surkh gulab bhej rhi hu is khushnuma mouke pe
ik tum kubul krna jharokhe ke peechhe se
ik vo kubul kre chand taro ke peechhe se
isi nek khwahish ke sath ki
kamyab ho hr mukam pe
bhut bhut sari shubhkamnayen aapko our aapke pure priwar ko .

महफूज़ अली said...

जन्मदिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं !

इस्मत ज़ैदी said...

harkeerat jee , main aap ke blog par der se aaee isliye dekh hi naheen paaee ki kal aap kaa janm din thaa muafee chaahtee hoon
baharhaal

happy birthday

sada said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना ..

खूबसूरत पंक्तियां दिल को छूती हुई, जन्‍मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनायें, ढेरों बधाईयों के साथ्‍ा ।

सत्यप्रकाश पाण्डेय said...

bahut sundar prastuti,
कृपया अपने बहुमूल्य सुझावों और टिप्पणियों से हमारा मार्गदर्शन करें:-
अकेला या अकेली

सत्यप्रकाश पाण्डेय said...

साथ ही ढेरों शुभकामनायें.

mridula pradhan said...

bahut achchi lagi.

arvind said...

आज की रात
फिर दावतों वाली है ...
आज की रात कोख खोलेगी
इश्क की किताब ....
.....vaah.शुभकामनाएं !

भूतनाथ said...

lo hamne to faad diya ye panna din-dahaade hi....ant kee do pantiyon par dil nisaar diya hai maine.....

सूर्य गोयल said...

हीर जी नमस्कार, सबसे पहले जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये. आपके जन्मदिन के बहाने आपके ब्लॉग पर आने का मौका मिला. आपके ब्लॉग का चक्कर काटने के बाद लगा की कितनी खूबसूरती से आपने अपने भावो को शब्दों में पिरोया है जिसके पश्चात इतनी सुन्दर कविताएं बन पायी है. फर्क मात्र इतना है की मै भी कुछ ऐसे ही भावो को गुफ्तगू के माध्यम से शब्द देता हूँ. बहुत ही सुन्दर रचनाये. बधाई

Tripat "Prerna" said...

o wah wah...kya baat...kuch aur naya..kuch aur taza..seekhne aur padne ko mila :)

maza aa gaya :)

http://liberalflorence.blogspot.com/

Tripat "Prerna" said...

and happy birthday to u :)

संदीप 'शालीन ' said...

आज की रात
फिर दावतों वाली है..

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना ...!!

har bar ki tarah ius bar bhi bahut khubsurat rachana .

singhsdm said...

Happy Bday heer ji
after a long period i am writing any comment on any blog....in fact i was away from INDIA.....! after returning here i came to know this is ur bday..so i decided to write first comment on ur blog. ur nazam is beautiful as always....!

रचना दीक्षित said...

हरकीरत जी
जन्मदिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं !
आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .....
रचना भी हमेशा की तरह सुन्दर है
आभार

Mrs. Asha Joglekar said...

Janm diwas kee shubh kamnaen . hamesha kee tarah kawita bahut hee sunder. Chandani ne jaroor aapke nam ka jam bhar laya hoga.

हरकीरत ' हीर' said...

आप सब का शुक्रिया किन लफ़्ज़ों से अदा करूँ .....समझ नहीं पाती .....
दो दिन व्यस्त रही न मेल देख पाई न आपके कमेन्ट ...आज देखती हूँ तो इतने मेल हैं कि सबको अलग अलग शुक्रिया भी कह पाना भी मुनासिब नहीं .....तो आप सबको यहीं शुक्रिया अदा करती हूँ .......!!
कुछ मेल समस और फोन भी आये .....
सबसे पाबला जी का फोन आया .....जानती थी उनका तो आएगा ही .....अभी गयी नहीं उनके ब्लॉग पे .....जाना है ....
डॉ अनुराग जी , विजय सपत्ति , सुलभ जी और मुफलिस जी का भी समस आया ....आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया .....
ये स्नेह सहेज कर रखने लायक है .....

और हाँ उनका भी शुक्रिया ......जो आये तो थे पर किसी गिले शिकवे के कारण बिना कमेन्ट किये लौट गए .....!!

neera said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .......!!

क्या बात है!


हर साल हम सभी यही तो करते हैं

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

"आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना !"
सारगर्भित रचना........
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएं....

हरकीरत ' हीर' said...

एक खुशखबरी है ......

इमरोज़ जी ने अपने बनाये दो चित्र भेजे हैं अमृता के जन्मदिन पर ....
जल्द ही उन्हें लगाने की कोशिश करुँगी अपनी पोस्ट पर .......!!

Razi Shahab said...

koi jawab nahi aap ki shairi ka

Mayank Bhardwaj said...

एक सुंदर रचना , बधाई

आपको एवं आपके परिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

इमरान अंसारी said...

हरकीरत जी ,

आपके द्वारा जज़्बात पर टिपण्णी के लिए शुक्रिया.......आपकी इसी पोस्ट में अपनी पहली टिपण्णी में मैंने आपसे एक सवाल पूछा था.....आपने अभी तक उसका जवाब नहीं दिया|

nilesh mathur said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .......!!

वाह! कमाल कि पंक्तियाँ है, बेहतरीन!
हीर जी, बधाई दूरदर्शन पर प्रस्तुति के लिए!

Coral said...

थोड़ी देर से ही सही पर जन्मदिन की शुभकामनाएं ...

रचना बहुत सुन्दर और दिलकश है ...

_______________________
एक ब्लॉग में अच्छी पोस्ट का मतलब क्या होना चाहिए ?

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...
This comment has been removed by the author.
आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...

ਮੈਕਯਾ ਹੀਰ ਜੀ,
ਸਤ ਸ੍ਰੀ ਅਕਾਲ!
ਸਬਤੋਂ ਪਹਿਲੇ ਜਨਮਦਿਨ ਦਿਯਾਂ ਲਖ-ਲਕ ਵਾਧਿਯਾੰ! ਓ ਕੀ ਕਹੰਦੇ ਨੇ ਅੰਗ੍ਰੇਜ਼ੀ ਚ ਬਿਲੇਟਿਡ ਹੈਪ੍ਪੀ ਬਰਥ ਡੇ!
ਅਤੇ ਏਹਦੇ ਵਿਚ ਕੋਈ ਨਵੀ ਗਲ ਨੀ ਹੈ ਕੇ ਮੈਨੂ ਆਜ ਵੀ ਨੀ ਸਮਝ ਆਯੀ......
ਪਰ ਹੁਣ ਮੈਂ ਅਪਨੀ ਬੇਵਕੂਫੀ ਨੂ ਪੰਜਾਬੀ ਚ ਛਿਪਾ ਲਿਯਾ ਕਰਾਂਗਾ!!!
ਘਟ ਲੋਕੀਂ ਹੀ ਸੰਝੂੰਗੇ!!! ਹਾ ਹਾ ਹਾ......
ਤੁਹਾਨੂ ਵੀ ਓਖਾ ਲਗ ਸਗਦਾ ਹੈ, ਗ੍ਰਾਮਰ ਚ ਮਿਸਟੇਕ ਜੋ ਹੋਣੀ ਹੈ!
ਹੁਣ ਇਸਤੋ ਪਹਿਲਾ ਤੁਸ੍ਸੀਂ ਮੇਰੇ ਤੋਂ ਇਰਿਟੇਟ ਹੋ ਜੋ, ਅਸੀਂ ਚਲਦੇ ਹੈੰਗੇ!!
ਜਦੋਂ ਵੀ ਫੁਰਸਤ ਮਿਲੇ, ਬੈਚਲਰ ਪੋਹਾ ਖਾਨ ਲਯੀ ਜ਼ਰੂਰ ਆਨਾ!

हरकीरत ' हीर' said...

इमरान अंसारी जी ,

रिश्ता तो शायद खुदा ने जोड़ दिया ....मैं तो बस उनकी चाहने वाली हूँ .....!!

इस बीच किसी के ब्लॉग पे नहीं जा पाऊँगी ....कुछ दिन की व्यस्तता रहेगी ....

क्षमाप्रार्थी हूँ.....!!

@ निलेश जी ,
शुक्रिया आपने प्रोग्राम देखा .....
आपको आमंत्रित किया था आप आये नहीं .....?
शीघ्र ही NE aur PRAG चैनल में भी होने वाली है कवी गोष्ठी .....!!

Suman said...

bahut khub.............

शोभना चौरे said...

देर से सही जन्मदिन की शुभकामनाये |

नादान उम्मीदें said...

blogjagat me naya hoon,jyada kuch nahi janta,kuch likha hai,aap jaisi shkhsiyat se agr kuch sikh saku to bdi baat hogi,nadaanummidien.blogspot
pr aapki raay jan na chahta hoon,agr samay mile to jarur padhaariye,,

नादान उम्मीदें said...

houslaafjaai ke liye shukriya madam,main koshish karunga agli baar or behtar karne ki,,,,sahyog sadaiw apekshit,,

डा. अरुणा कपूर. said...

...बहुत सुंदर भाव!

kumar zahid said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .......!!

और जब बस्तों की शक्ल में
बच्चे ढोयेंगे सुबह
अपने कंधों में
हम चुपके से
उनकी किताबों के
वर्क हो जायेंगे...

हरकीरत जी ऐसा ही होगा न ?

लोकेन्द्र said...

वाह..... कुछ तलाशती रातो में आशा की निराली कल्पना....

सुनील गज्जाणी said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना .....


जन्मदिन की शुभकामनाएं ...और नज़्म बहुत खूबसूरत बिम्बों से सजी हुई ...

usha rai said...

कितनी मुरादो वाली उम्र का पन्ना है वह !सबको नाज है उन सरे पन्नों पर जो इन दो जिंदगियों से जुड़े है !

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह said...

Aapka Hardik Abhar,Shubhkamnayen bhi ,sabhi kuch saath saath,
janmdin mubarak aapko,isi tarah likhti rahen khoobsoorat nazme aur ghazle.
mujhe to bahut khushi mili aapki is nazm sey.
sader naman,
aapka ,dr.bhoopendra
jeevansandarbh.blogspot.com

Rahul Singh said...

जिंदगी का पढ़ लिया जैसा एक पन्‍ना, अर्थ जाने कब खोले.

अभिषेक said...

आज की रात फाड़ेंगे हम
अपनी-अपनी उम्र का
इक और पन्ना
बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ है |
हमारे ब्लॉग पर आके होंसला आफजाई के लिए धन्यवाद् |