Sunday, March 8, 2009

मित्रो, शमा जी ब्लॉग पढ़ कर आ रही हूँ ...मन भीतर तक आहात है ....यह दो छोटी कवितायें उन्हीं को समर्पित हैं .....
(१)

सिसकता चाँद .....

रात आसमां में
इक सिसकता चाँद देखा
उसकी पाजेब नही बजती थी
चूड़ियाँ भी नहीं खनकती थीं
मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे .....!!

(२)

छूटती जाती ज़िंदगी .......

जीवन और मृत्यु
जैसे दो विपरीत दिशाओं से आकर
एक ही बिन्दु पर मिल गए हैं
दिल में आग की इक लपट सी है
और यह काली रात
बेड़ियों का गला दबा
ज़िन्दगी को छू लेना चाहती है

मैं हथेली की लकीरों को
कुरेदने लगती हूँ
खून की कुछ बूंदें रिसकर
अंगुलिओं की दरारों से
बहने लगतीं हैं
जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!

51 comments:

Syed said...

रात आसमां में
इक सिसकता चाँद देखा
उसकी पाजेब नही बजती थी
चूड़ियाँ भी नहीं खनकती थीं
मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे .....!!

आज महिला दिवस के सन्दर्भ में बहुत ही सार्थक कविता..

sidheshwer said...

उम्दा अभिव्यक्ति !
शमा जी के ब्लाग लिन्क दें तो कैसा रहे !!

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुंदर....
धन्यवाद

dwij said...

बहुत खूब


रात आसमां में
इक सिसकता चाँद देखा
उसकी पाजेब नही बजती थी
चूड़ियाँ भी नहीं खनकती थीं
मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे .....!!

जवाब नहीं personification का

shama said...

Harkirat,
Maine aaneme derhee kar dee...jabtak aapkaa blog khola, 4 comments pehlehee aa chuke the...!
Main kya kahun?? Aaap hameshaa itnaa achha likhtee hain,ki mere paas alfaaz nahee hote...
Aur kis tarahse shukr guzaaree karun,ki aap jaisee qabiliyat rakhnewaalee, behad sadhee aur suljhee huee mahilaane, ek hasteene, jise main naman kartee hun....ye rachnayen mujhe arpit kee hain..!
Shayad, meree beteene mujhe "ek aansoon" barson pehle....27 saal pehle tohfeme diyaa tha, uske baad ye ek behtareen tohfaa mila hai mujhe...
Aur nahee likha jaataa...meree ankhen, bhar aa rahee hain...

mehek said...

dno rachnaye bahut marmik bhavpurn hai,bahut pasand aayi khas kar sisakta chand,sundar.

creativekona said...

मैं हथेली की लकीरों को
कुरेदने लगती हूँ
खून की कुछ बूंदें रिसकर
अंगुलिओं की दरारों से
बहने लगतीं हैं
जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!
मन को आहत ,एवं बहुत कुछ सोचने को मजबूर करने वाली पंक्तियाँ .
हरकीरत जी ....आपको अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एवं होली की शुभकामनायें .
हेमंत कुमार

ਤਨਦੀਪ 'ਤਮੰਨਾ' said...

इक सिसकता चाँद देखा
उसकी पाजेब नही बजती थी
चूड़ियाँ भी नहीं खनकती थीं
मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे
Harkirat ji...kyoon na mill kar yeh dard baant lein?? Bahut hi khoobsurat hai aapki yeh rachna..mubarakbaad kabool keijeiye...Isska anuvaad karke Aarsi pe lagana chahungi. Jaldi hi phone karoongi.

Shubh kamnaon ke saath...
Tandeep Tamanna
Vancouver, Canada

अविनाश said...

जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!

एक बेहद सुंदर और सफल प्रयास, दिल को छूने वाली रचना
शुक्रिया

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

वाकई दर्दनाक!

Kishore Choudhary said...

आपने दिल को छू लेने वाली कविता समर्पित की है शमा जी को .

Manvinder said...

जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!

एक बेहद सुंदर और सफल प्रयास, दिल को छूने वाली रचना

"अर्श" said...

shamaa ji ko itni umda kavita bhet kiya aapne kamaal hai ... bahot hi umda likha hai aapne...


arsh

अल्पना वर्मा said...

मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे

----
जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!

-दर्द की इंतिहा इसी को कहते हैं शायद!
मन को छू गयीं दोनों कवितायेँ.

रश्मि प्रभा said...

मैं हथेली की लकीरों को
कुरेदने लगती हूँ
खून की कुछ बूंदें रिसकर
अंगुलिओं की दरारों से
बहने लगतीं हैं
जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!bahut hi sahi,gahre ehsaas

सुशील कुमार छौक्कर said...

मैं आपकी रचनाएं पढ़कर नि:शब्द हो जाता हूँ। समझ नही आता कि क्या लिखूँ आपकी रचना की तारीफ में। सच दिल को छू जाती आपकी रचनाएं। और आज की रचनाएं तो दर्द से भरी हैं।

मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे
==

जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ..

...............(क्या कहूँ)

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत सुन्दर बेहद मार्मिक लगी दोनों रचनाएँ
मैं हथेली की लकीरों को
कुरेदने लगती हूँ
खून की कुछ बूंदें रिसकर
अंगुलिओं की दरारों से
बहने लगतीं हैं
जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!

विनय said...

सुन्दर रचनाओं और रंगों के त्योहार होली पर आपको एवं आपके समस्त परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ

---
चाँद, बादल और शाम
गुलाबी कोंपलें

नीरज गोस्वामी said...

लाजवाब नज़्म है...कैसे लिख लेती हैं किसी के दुःख को इतने हुनर से?...वाह वा..
आपको होली की शुभ कामनाएं ...
नीरज

दिगम्बर नासवा said...

हरकीरत जी
बहूत ही गहरी, संवेदना से भरी रचना. छोटी किन्तु शशक्त रचना

आपको और आपके परिवार को होली की शुभ कामनाएं

pallavi trivedi said...

मैं हथेली की लकीरों को
कुरेदने लगती हूँ
खून की कुछ बूंदें रिसकर
अंगुलिओं की दरारों से
बहने लगतीं हैं
जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!

i m speechless....hats off.

अशोक कुमार पाण्डेय said...

सुन्दर कवितायें

अभी वर्तमान साहित्य मे भी आपकी कविता पढी।
शुभकामनाये।

neera said...

हैरान हूँ आपके भीतर छिपे दर्द के सागर को देख कर..
सिर्फ उसमें डूब जाने को जी करता है

feelings44ever said...

dard jeevan ka hissa hai par uss main dub kar hame hatas nahi hona chahiye
aap ki kavita main bhut dard hai
aap bhut accha likhti hai
par gamo main bhi kabhi kabhi hame khushi jaroor dhodni chahiye
zindagi asan ho jati hai

sanjaygrover said...

आपने दो-दो दुकानें (ब्लाग) और खोल लीं ! चलिए इनकी भी और होली की भी बधाई।
Magar holi par aap KHUN kyoN baha rahi haiN :)-
खून की कुछ बूंदें रिसकर
अंगुलिओं की दरारों से
बहने लगतीं हैं
???????

Bhagat said...

zhakzhor kar jaga dene waala chitra khicha hai aapane .
ज़िन्दगी को समझने की ज़द्दोज़हद में !
http://poemnstory.blogspot.com/

अविनाश said...

होली की आपको और आपके परिवार में समस्त स्वजनों को हार्दिक शुभकामनाएँ

sanjaygrover said...

तुसी कुज वी कहो हिकारत फकीर जी, तुआडे आण नाल समां बण जांदा ए। एस करके तुआडी झल्लियां वी मैंन्नू चंगियां लगदीयां ने।

MUFLIS said...

रचना हमेशा की तरह स्तरीय है
शब्द तो जाने आपकी क़लम की नोक पर बैठे
आपके आदेश का इंतज़ार ही करते रहते हैं.....
और आदरणीय शमा जी के लिए परम-पिता परमात्मा से प्रार्थना करता हूँ ...
भगवान् उन्हें अपने आशीर्वाद और शक्ति से नवाजें ...अस्तु !
---मुफलिस---

manu said...

मुफलिस जी की एक एक बात ,,हर लफ्ज़ से पूरा पूरा इत्तेफाक रखता हूँ,,,,,शानदार कविता,,,,
आपकी भावुकता चाँद को जाने कैसी नज़रों से देख रही है,,,,,मगर आज इस त्यौहार पर सच्चे मन से ये दुआ जरूर करता हूँ के ,,,,,,,,
अब इस चाँद पर से ग्रहण का वक्त ishwar ख़त्म करे,,,,,
सभी को होली मुबारक,,,,,,

प्रदीप कांत said...

रात आसमां में
इक सिसकता चाँद देखा
उसकी पाजेब नही बजती थी
चूड़ियाँ भी नहीं खनकती थीं
मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे .....!!

अच्छी अभिव्यक्ति

सुलभ [Sulabh] said...

आदरणीय हिंदी ब्लोगेर्स को होली की शुभकामनाएं और साथ में होली और हास्य
धन्यवाद.

- सुलभ

Science Bloggers Association said...

होली की हार्दिक शुभकामनाऍं।

Vijay Kumar Sappatti said...

hamesha ki tarah shaan daar aur jaandar ...

apne shabdkosh ka pata de dijiye ..
kahan se doondh le aati hai ye shabdo ka khazana ..

waha ji wah ..badhai ho

SWAPN said...

dard hi jismen bhara ho
har shabd sone sa khara ho
kya lagayen mol uska
wo badi anmol hain

योगेन्द्र मौदगिल said...

होली मुबारक....

Mumukshh Ki Rachanain said...

उसके लब सिये हुए थे .....!!

वास्तविक कारन से अनजान मै तो सिर्फ यही समझ सकता हूँ कि इसका कारण भय तो निशित रूप से न रहा होगा, और जो रहा होगा वह इनमें से कोई न कोई ही रहा होगा........ " संस्कार, सहनशीलता, आशा, विश्वाश, किसी से सहायता न मिलने का आभास, .................

बोले हुए शब्द का अर्थ तो हर कोई अपने हिसाब से निकाल लेता है, किन्तु मौन की भाषा पढ़ना सब के बस की बात नहीं, यह परिस्थितियों, भावनाओं, मनस्थिति पर निर्भर करती है. खैर......
एक अच्छी कविता प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.

Dr. Chandra Kumar Jain said...

गहन संवेदना की मार्मिक
अभिव्यक्ति.....आपके शब्द
भावों का वहन पूरी शिद्दत से
करते हैं....यह आपकी शैलीगत
पहचान-सी बन गयी है अब.
=========================
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

Harkirat Haqeer said...

Mitro,
Ek khuskhbari aap sab se bantna chahti hun...Patiala ke ek varisth sahityakar Amarjeet Kaunke
jo khud hindi aur punjabi ke jane mane rachnakar hain ne meri rachnaon ka panjabi me anuvaad kr sangkalan nikalne ki bat ki hai....mujhe us din ka intjar rahega.....!!

समीर सृज़न said...

दोनों कविता अन्दर तक झकझोरने वाली है..ऐसी कवितायों को अपने ब्लॉग पर स्थान देने के लिए बधाई..
सच ही है कि...
"अपनी मर्ज़ी से कहाँ सफ़र के हम है ,रुख हवाओ क जिधर का है उधर के हम है.."

गर्दूं-गाफिल said...

जिंदगी दर्द से बाबस्ता है ,नज्म रहनुमाई करे
सुखन से गुफ्त गू चले ,गजल आशनाई करे

चोट लग जाए तो मरहम ख्याल होता है
क्या करे कोई जो ख्यालात बे वफाई करे

अनुपम अग्रवाल said...

सिसकता चाँद

उसके लब सिये हुए थे
या मन भर दर्द पिये हुए थे .

छूटती ज़िन्दगी
मिलन जीवन - म्रत्यु का
वाह ...

दर्पण साह 'दर्शन' said...

....जैसे ज़िन्दगी हाथों से
छूटती जा रही हो ......!!

bada dukjhad falsafa jhai ji aapka....
..rona nahi aaya bas yahi shukr hai!!
sundar!

BrijmohanShrivastava said...

लब सिले होने से पायल और चूडियों की खनक का क्या तआल्लुक /हाथ की लकीरों को कुरेदने से खून का निकलना स्वाभाविक है /

संदीप शर्मा Sandeep sharma said...

रात आसमां में
इक सिसकता चाँद देखा
मैंने घूंघट उठा कर देखा
उसके लब सिये हुए थे .....!!

बेहद सुन्दर रचना...

Harkirat Haqeer said...

लब सिले होने से पायल और चूडियों की खनक का क्या तआल्लुक ...
Brijmohan ji,
Maine kavita ke aarambh me likha hai ki ye kavita shma ji ko samarpit hai...jinhone shma ji ka blog padha hai wo samajh jayege ki ek dari ,sahmi,bebas aurat ki kya sthiti ho sakti hai...uski n chudiyan khnakti hain n pazeb bajti hai ...bolne se bhi darti hai ki kahi use aur mansik pratadna n jhelni pade ...isliye apne honthon ko bhi siye rakhti hai ....aas hai ab तआल्लुक samajh gaye honge....!!

प्रकाश बादल said...

हरकीरत जी मुझे तो आपके भाव हमेशा ही प्रभावित करते हैं मैं आपकी किन-किन पंक्तियों की तारीफ करूं और किन्हें छोड़ दूँ, काश ऐसे-ऐसे बिम्ब मेरे ख़्यालों में भी आते तो मैं भी आपकी तरह वाहवाही लूटता। एक बार फिर से मनमोहक रचनाओं के लिए आपको बधाई।

सुभाष नीरव said...

हरकीरत तुम्हारी यह छोटी सी कविता "सिसकता चाँद" औरत के जिस दर्द को रेखांकित कर रही है, उसे बड़ी बड़ी रचनाएं भी ठीक से व्यक्त नहीं कर पातीं। ब्रज मोहन जी को आपने सही उत्तर दिया है। यूँ तो तुम्हारी हर कविता में एक औरत के दर्द की एक गहरी अभिव्यक्ति मिलती है(तुम्हारे पहले कविता संग्रह का नामे भी "इक दर्द" है) पर यह छोटी सी कविता बहुत कुछ कह जाती है।

sandhyagupta said...

Stri ke jeevan ki ghutan,pida aut santras ka marmik chitran kiya hai aapne.Badhai.

manu said...

bhaai jaan ,
taalluk to hotaaa hai,,,haan koi is taalluk ko ,,,,

adaalat me saaabit naa kar paaye shaaayad,,,,,

aapki samajh ke baaare me filhaal koi raay nahi doongaa,,,
shubh raatri,,,,,,,,,

गर्दूं-गाफिल said...

आप मेरे ब्लॉग पर आए ।

धन्यवाद

अभी अभी बज्म में दाखिल हुआ हूँ

कब तक दिल-बस्तगी की राह होगी

मुझे मालूम नही इस शहर का मिजाज

उम्मीद है डगर शज़र पनाह होगी



कुछ और रचनाओं पर आपकी टिप्पणईया मिलेगी तो अच्छा लगेगा